हमराही | Bhopali2much - Bhopali2Much

Latest

Random Posts

BANNER 728X90

Sunday, 29 January 2017

हमराही | Bhopali2much



ओ मेरे प्यारे हमराही,
बड़ी दूर से हम तुम दोनों
संग चले हैं पथ पर ऐसे,
गाडी के दो पहिये जैसे।

कहीं पंथ को पाया समतल
कहीं कहीं पर उबड़-खाबड़,
अनुकम्पा प्रभु की इतनी थी,
गाडी चलती रही बराबर।

कभी हंसी थी किलकारी थी
कभी दर्द पीड़ा भारी थी,
कभी कभी थे भीड़-झमेले
कभी मौन था, लाचारी थी।

रुके नहीं पथ पर फिर भी हम
लिये आस्था मन में हरदम,
पग दृढ़तर होते जाते हैं
पथ पर ज्यों बढ़ते जाते हैं।

इतना है विश्वास प्रिये कि
बादल यह भी छंट जाएगा,
सफर बहुत लंबा है लेकिन
संग तुम्हारे कट जाएगा।

~~~~~~~~~~~~~~~

o mere pyare hamrahi,
badi dur se ham tum dono,
sang chale hai path par ese
gadi ke do pahiye jaise,

kahi path ko paya samtal
kahi ubad khabad
anukampa prabhu ki itani thi,
gadi chalti rahi barabar,

kahi hasi thi kilkari thi,
kahi dard pida bhari thi,
kabhi kabhi the bheed jhamele
kabhi mon tha lachari thi,

ruke nahi the path par,
fir bhi ham liye astha man me har dam
pag dradhtar ho jate hai ,
path par jyo badhte jate hai

itana hi vishwas kiya ki ,
badal ye bhi chhat jayege
safar bahut lamba hai lekin,
sang tumhare kat jayega

posted from Bloggeroid