लग जा गले से फिर ये हंसी रात हो न हो, शायाद फिर इस जनम में मुलाक़ात हो न हो

Lag ja gale se fir ye hansee raat ho na ho
Shayad fir is janam me, mulaqat ho na ho...

Lag ja gale se fir ye hansee raat ho na ho
Shayad fir is janam me, mulaqat ho na ho...

Humko mili hai aaj ye ghadiyan naseeb se
Jeeb bhar ke dekh lijiye humko kareeb se
Fir aapke naseeb me ye baat ho na ho
shayad fir is janam me mulaqat ho na ho

Lag ja gale se fir ye hansee raat ho na ho
Shayad fir is janam me, mulaqat ho na ho...

Paas aaiye ke hum nahi aayenge baar baar
Baahen gale me daal ke hum ro le zaar zaar
Aankho se fir ye pyaar ki barsaat ho na ho
shayad fir is janam me mulaqat ho na ho

Lag ja gale se fir ye hansee raat ho na ho
Shayad fir is janam me, mulaqat ho na ho...

....

लग जा गले से फिर ये हंसी रात हो न हो
शायाद फिर इस जनम में मुलाक़ात हो न हो

लग जा गले से फिर ये हंसी रात हो न हो
शायाद फिर इस जनम में मुलाक़ात हो न हो

हमको मिली हैं आज ये घड़ियाँ नसीब से
जी भर के देख लीजिये हमको करीब से
फिर आप के नसीब में ये बात हो न हो
शायद फिर इस जनम में मुलाक़ात हो न हो

लग जा गले से फिर ये हंसी रात हो न हो
शायाद फिर इस जनम में मुलाक़ात हो न हो

पास आइये के हम नहीं आएंगे बार बार
बाँहें गले में डाल के हम रो लें ज़ार ज़ार
आँखों से फिर ये प्यार की बरसात हो न हो
शायद फिर इस जनम में मुलाक़ात हो न हो

लग जा गले से फिर ये हंसी रात हो न हो
शायाद फिर इस जनम में मुलाक़ात हो न हो
लग जा गले से फिर ये हंसी रात हो न हो, शायाद फिर इस जनम में मुलाक़ात हो न हो लग जा गले से फिर ये हंसी रात हो न हो, शायाद फिर इस जनम में मुलाक़ात हो न हो Reviewed by Bhopali2much on May 02, 2017 Rating: 5
Powered by Blogger.