क्या बेचकर हम तुझे खरीदें, ऐ.... ज़िन्दगी - Bhopali2much - Bhopali2Much

Latest

Random Posts

BANNER 728X90

Thursday, 16 March 2017

क्या बेचकर हम तुझे खरीदें, ऐ.... ज़िन्दगी - Bhopali2much

क्या बेचकर हम तुझे खरीदें, ऐ.... ज़िन्दगी,
सब कुछ तो गिरवी पड़ा है, ज़िम्मेदारी के बाज़ार में...

kya bechkar hum tujhe khareeden, ae zindagi
sab kuch to girvi pada hai, zimmedari ke bazaar mein.