भेजता रहता है गुम-नाम ख़तों में कुछ फूल - ऐतबार साजिद | Bhopali2Much - Bhopali2Much

Latest

Random Posts

Thursday, 16 March 2017

भेजता रहता है गुम-नाम ख़तों में कुछ फूल - ऐतबार साजिद | Bhopali2Much



छोटे छोटे कई बे-फ़ैज़ मफ़ादात के साथ
लोग ज़िंदा हैं अजब सूरत-ए-हालात के साथ

Chote chote kai be-faiz mafaadat ke saath
log zindaa hain ajab soorat-e-haalat ke saath

फ़ैसला ये तो बहर-हाल तुझे करना है
ज़ेहन के साथ सुलगना है कि जज़्बात के साथ

Faisala ye to bahar haal tujhe karna hai
zehan ke saath sulagna hai ki jazbaat ke saath

गुफ़्तुगू देर से जारी है नतीजे के बग़ैर
इक नई बात निकल आती है हर बात के साथ

Guftagu der se jaari hai nateeje ke bagair
Ik nai baat nikal aati hai har baat ke saath

अब के ये सोच के तुम ज़ख़्म-ए-जुदाई देना
दिल भी बुझ जाएगा ढलती हुई इस रात के साथ

Ab ke ye soch ke tum zakhm-e-judaai dena
Dil bhi bujh jayega dhalti hui is raat ke saath

तुम वही हो कि जो पहले थे मेरी नज़रों में
क्या इज़ाफ़ा हुआ इन अतलस ओ बानात के साथ

Tum vahi ho ki jo pehle the meri nazron me
Kya izaafa hua in atlas-o-baanaat ke saath

इतना पसपा न हो दीवार से लग जाएगा
इतने समझौते न कर सूरत-ए-हालात के साथ

Itna paspaa na ho deewar se lag jayega
Itne samjhote na kar soorat-e-haalaat ke saath

भेजता रहता है गुम-नाम ख़तों में कुछ फूल
इस क़दर किस को मोहब्बत है मेरी ज़ात के साथ

Bhejta rehta hai gum naam khaton me kuch fool
Is kadar kis ko mohabbat hai meri zaat ke saath

ऐतबार साजिद | Aitbar Sajid