प्रिय तुम्हारी सुधि को मेंने यूं भी अक्सर झूम लिया - देवल आशीष | Bhopali2much



प्रिय तुम्हारी सुधि को मेंने यूं भी अक्सर झूम लिया
तुम पर गीत लिखा फिर उसका अक्षर अक्षर चूम लिया

में क्या जानूं मन्दिर मस्जिद गिरजा या गुरूद्वारा
जिन पर पहली बार लिखा था अल्हण रूप तुम्हारा
मेंने उन पावन राहों का पत्थर पत्थर चूम लिया
प्रिय तुम्हारी सुधि को मेंने यूं भी अक्सर झूम लिया........तुम पर गीत

हम तुम कितनी दूर धरा से नभ की जितनी दूरी
फिर भी हमने साथ मिलन की पल में कर ली पुरी
मेंने धरती को दुलराया तुमने अम्बर चूम लिया
प्रिय तुम्हारी सुधि को मेंने यूं भी अक्सर झूम लिया..........तुम पर गीत

प्रियतम सुधि की गंध तुम्हारी मेंने चूमी ऐसे
चरण अहिल्या ने रघुवर के चूम लिये थे जैसे
जैसे लकडी की मुरली ने मोहन का स्वर चूम लिया
प्रिय तुम्हारी सुधि को मेंने यूं भी अक्सर झूम लिया........तुम पर गीत

— श्री देवल आशीष श्रंगार रस कवि (Deval Ashish)
प्रिय तुम्हारी सुधि को मेंने यूं भी अक्सर झूम लिया - देवल आशीष | Bhopali2much  प्रिय तुम्हारी सुधि को मेंने यूं भी अक्सर झूम लिया - देवल आशीष | Bhopali2much Reviewed by Bhopali2much on April 18, 2017 Rating: 5
Powered by Blogger.