अभी-अभी एक गीत रचा है तुमको जीते-जीते - डॉ. कुमार विश्वास




अभी-अभी एक गीत रचा है तुमको जीते-जीते !!
अभी-अभी अमृत छलका है अमृत पीते पीते !!
हां अभी-अभी  हां अभी-अभी

अभी-अभी सांसो में उतरी है सांसो की माया !!
अभी-अभी होंठों ने जाना अपना और पराया !!
अभी-अभी एहसास हुआ जीवन जीवन होता है !!
खुद को शून्य बनाना ही कितना विराट होता है !!
हां अभी-अभी  हां अभी-अभी

अभी-अभी एक गीत रचा है तुमको जीते-जीते !!
अभी-अभी अमृत छलका है अमृत पीते पीते !!
                  
~ डॉ. कुमार विश्वास ~

New geet Abhi Abhi Ek Geet Likha Hai by Dr. Kumar Vishwas Like | Comment | Share | Subscribe For more http://bit.ly/bpli2mch
अभी-अभी एक गीत रचा है तुमको जीते-जीते - डॉ. कुमार विश्वास अभी-अभी एक गीत रचा है तुमको जीते-जीते - डॉ. कुमार विश्वास Reviewed by Bhopali2much on March 06, 2017 Rating: 5
Powered by Blogger.