दुनिया के सितम याद न अपनी ही वफ़ा याद, अब मुझ को नहीं कुछ भी मोहब्बत के सिवा याद - जिगर मुरादाबादी



दुनिया के सितम याद न अपनी ही वफ़ा याद
अब मुझ को नहीं कुछ भी मोहब्बत के सिवा याद

मैं शिकवा ब-लब था मुझे ये भी न रहा याद
शायद कि मिरे भूलने वाले ने किया याद

छेड़ा था जिसे पहले-पहल तेरी नज़र ने
अब तक है वो इक नग़्मा-ए-बे-साज़-ओ-सदा याद

जब कोई हसीं होता है सरगर्म-ए-नवाज़िश
उस वक़्त वो कुछ और भी आते हैं सिवा याद

क्या जानिए क्या हो गया अरबाब-ए-जुनूँ को
मरने की अदा याद न जीने की अदा याद

मुद्दत हुई इक हादसा-ए-इश्क़ को लेकिन
अब तक है तिरे दिल के धड़कने की सदा याद

हाँ हाँ तुझे क्या काम मिरी शिद्दत-ए-ग़म से
हाँ हाँ नहीं मुझ को तिरे दामन की हवा याद

मैं तर्क-ए-रह-ओ-रस्म-ए-जुनूँ कर ही चुका था
क्यूँ आ गई ऐसे में तिरी लग़्ज़िश-ए-पा याद

क्या लुत्फ़ कि मैं अपना पता आप बताऊँ
कीजे कोई भूली हुई ख़ास अपनी अदा याद

- जिगर मुरादाबादी
दुनिया के सितम याद न अपनी ही वफ़ा याद, अब मुझ को नहीं कुछ भी मोहब्बत के सिवा याद - जिगर मुरादाबादी दुनिया के सितम याद न अपनी ही वफ़ा याद, अब मुझ को नहीं कुछ भी मोहब्बत के सिवा याद - जिगर मुरादाबादी Reviewed by Bhopali2much on April 06, 2017 Rating: 5
Powered by Blogger.